कोरोना महामारी के इर्द-गिर्द बुनी कहानी ''अनपॉज्ड', पढ़ें पूरा रिव्यू

यह एक एंथोलॉजी फ़िल्म है जो अमेज़ॉन प्राइम वीडियो पर रिलीज़ की गई है। 'अनपॉज्ड' में 5 अलग-अलग कहानियाँ हैं और जिन्हें पाँच डायरेक्टर्स ने मिलकर बनाया है। हर कहानी के किरदार अलग हैं। यह फिल्म कोरोना महामारी के इर्द-गिर्द घूमती है और इसमें इस्तेमाल किए गए किरदार, शब्द और कहानी आपको जानी-पहचानी सी लगती है।

Bollywood Halchal Jan 27, 2021

कोरोना महामारी के कारण ओटीटी प्लेटफॉर्म्स का बोलबाला है। बीते साल ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर कई बेहतरीन फिल्में और वेब सीरीज रिलीज की गईं। हाल ही में अमेजन प्राइम पर एक फिल्म बहुत ट्रेंड कर रही है, जिसका नाम नाम है - 'अनपॉज्ड।' यह एक एंथोलॉजी फ़िल्म है जो अमेज़ॉन प्राइम वीडियो पर रिलीज़ की गई है। 'अनपॉज्ड' में 5 अलग-अलग कहानियाँ हैं और जिन्हें पाँच डायरेक्टर्स ने मिलकर बनाया है। हर कहानी के किरदार अलग हैं। यह फिल्म कोरोना महामारी के इर्द-गिर्द घूमती है और इसमें इस्तेमाल किए गए किरदार, शब्द और कहानी आपको जानी-पहचानी सी लगती है क्योंकि आपने भी यह सब लॉकडाउन के दौरान जरूर महसूस किया होगा। आइए जानते हैं क्या है 'अनपॉज्ड' फिल्म की खासियत और क्या यह फिल्म देखने लायक है या नहीं - 

फिल्म के पहले पार्ट 'ग्लिच' को निर्देशक राज एंड डीके ने डायरेक्ट किया है। इसकी कहानी में अहान (गुलशन देवैया) और आयशा हुसैन (सैयामी खेर) वर्चुअल डेटिंग के जरिए से एक-दूसरे से मिलते हैं। कहानी में दिखाया गया है कि अभी भी कोरोना वायरस खत्म नहीं हुआ है और अब कोविड-30 चल रहा है। कोरोना वायरस के कारण अब वर्क फ्रॉम होम की जगह एक नया शब्द जुड़ गया है - 'एवरीथिंग फ्रॉम होम।' जब अहान को पता चलता है कि आयशा कोरोना वॉरियर है तो वह डर के मारे भाग जाता है। अहान को आयशा बहुत पसंद है लेकिन उसे वायरस के संक्रमण का डर भी है। ऐसे में अहान क्या करेगा यह देखना बहुत दिलचस्प हो जाता है। 

फिल्म के दूसरे पार्ट का नाम है - 'अपार्टमेंट'। जिसे निर्देशक निखिल अडवाणी ने डायरेक्ट किया है। इस फिल्म की कहानी देविका (ऋचा चड्ढा) और साहिल (सुमित व्यास) के इर्द-गिर्द घूमती है। देविका एक मैगजीन 'ट्रू पेज' की मालकिन है और साहिल  मैगज़ीन का एडिटर। फिल्म में दिखाया जाता है कि जनता कर्फ्यू लगाया जा रहा है। देविका अपने फ्लैट पर सुसाइड करने की कोशिश करती है लेकिन उसी वक्त उसका पड़ोसी चिराग (इश्वाक सिंह) देविका के फ्लैट पर आ जाता है। देविका सुसाइड क्यों करना चाहती है? क्या वह लॉकडाउन से परेशान है या कुछ और वजह है? यह जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी। 

'अनपॉज्ड' के तीसरे पार्ट 'रैट-अ-टैट' का निर्देशन तनिष्ठा चटर्जी ने किया है। इस फिल्म में अर्चना जी (लिलेट दुबे) हर किसी को सही से मास्क पहनने की सलाह देती रहती है। कहानी में प्रियंका (रिंकू राजगुरु) भी है, जिसकी नौकरी जा चुकी है और अब उसके पास खाने के लिए भी पैसे नहीं बचे हैं। कोरोना काल में अर्चना और प्रियंका किस तरह से एक-दूसरे के साथ पेश आते हैं, यह जानने के लिए आपको फिल्म देखनी होगी।

फिल्म के चौथे पार्ट 'विषाणु' को निर्देशक अविनाश अरुण ने डायरेक्ट किया है। इस फिल्म की कहानी 'प्रवासी मजदूरों' के इर्द-गिर्द घूमती है। कोरोना काल में प्रवासी मजदूर कैसे पैदल घर के लिए निकल पड़े हैं, उन्हें किन-किन दिक्क्तों का सामना करना पड़ा है, यह सब फिल्म में दर्शाया गया है। इस फिल्म की कहानी में एक मज़दूर परिवार है, जिसमें मनीष (अभिषेक बनर्जी), उसकी पत्नी सीमा (गीतिका विद्या ओहल्यान) और उनका बेटा मोनू है। लॉकडाउन में मनीष और उसका परिवार मुंबई में फंस गया है और मकान मालिक ने उन्हें घर से निकाल दिया है। मनीष के पास गांव जाने के लिए प्राइवेट गाड़ी को देने के लिए पैसे नहीं हैं। ऐसे में यह परिवार चोरी से एक फ्लैट में रहने लगता है। मनीष और उसका परिवार किस तरह गाँव पहुँचेगा यह जानने के लिए आपको  होगी। 

इस फ़िल्म आखिरी पार्ट है - 'चांद मुबारक'। इसका निर्देशन नित्या मेहरा ने किया है। इस फिल्म में उमा (रत्ना पाठक शाह), एक बुजुर्ग महिला के किरदार में हैं। लॉकडाउन के दौरान उमा दवाइयाँ लेने घर से अकेले निकल पड़ती हैं। रास्ते में पुलिस वाले उमा को रोकते हैं और उन्हें एक ऑटो में बिठाकर मेडिकल स्टोर तक भेजते हैं। ऑटो वाला रफीक (शार्दुल भारद्वाज) भी भला इंसान है उमा की बहुत मदद करता है। फिल्म में दिखाया गया है कि किस तरह मदद से शुरू हुआ यह रिश्ता उमा और रफीक के बीच दोस्ती में बदल जाता है। 

फ़िल्म 'अनपॉज्ड' में कोरोना महामारी और लॉकडाउन दौरान हम सभी ने जो कुछ भी अनुभव किया है, वह फिल्म में दिखाने की कोशिश की गई है। फिल्म में जनता कर्फ्यू, सोशल डिस्टेंसिंग, और कोरोना वायरस जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया गया है। फिल्म के सभी पार्ट्स के निर्देशकों ने अपनी तरफ से अच्छी कोशिश की है। हालाँकि, कुछ पार्ट्स में थोड़ी सी कमी लगती है लेकिन उसे नज़रअंदाज़ किया जा सकता है। कोरोना महामारी के इर्द-गिर्द बनी यह एक बेहतरीन फिल्म है। अगर एक्टिंग की बात की जाए तो फिल्म में सैयामी खेर, गुलशन देवैया, ऋचा चड्ढा, सुमित व्यास, इश्वाक सिंह, लिलेट दुबे, रिंकू राजगुरु, अभिषेक बनर्जी, गीतिका विद्या ओहल्यान, रत्ना पाठक शाह और शार्दुल भारद्वाज जैसे कलाकारों ने शानदार अभिनय किया है। इस फिल्म के गाने भी अच्छे हैं और फिल्म की अवधि दो इसलिए आप इसे कभी भी आराम से देख सकते हैं।


Find Us



बॉलीवुड हलचल

बॉलीवुड की चटपटी खबरों के साथ ही पढ़िये हर नयी फिल्म की सबसे सटीक समीक्षा। साथ ही फोटो और वीडियो गैलरी में देखिये बॉलीवुड की हर हलचल।


लेटेस्ट पोस्ट


L o a d i n g