हिंदी सिनेमा के टॉप एक्टर थे विनोद खन्ना, फिर सब कुछ छोड़कर बन गए थे संन्यासी, पढ़िए उनकी जिंदगी के अनसुने किस्से

80 के दशक में विनोद खन्ना का नाम बॉलीवुड के टॉप एक्टर्स की लिस्ट में शामिल था। विनोद का जन्म 6 अक्टूबर 1946 को पेशावर में हुआ था।सन 1947 में बँटवारे के बाद उनका परिवार मुंबई आ गया था। ज़िंदगी में बेशुमार दौलत और शौहरत कमाने के बाद भी विनोद खन्ना ने अपनी जिंदगी में कई उतर-चढ़ाव देखे हैं।

Bollywood Halchal Oct 06, 2020

हिंदी सिनेमा के मशहूर अभिनेता विनोद खन्ना की आज बर्थ एनिवर्सरी है। आज भले ही विनोद खन्ना हमारे बीच ना हों लेकिन अपनी फिल्मों के जरिए वे हमेशा अपने फैन्स के दिलों में जिंदा रहेंगे। विनोद खन्ना ने अपने करियर में एक से बढ़कर एक हिट फिल्में दी हैं। 80 के दशक में विनोद खन्ना का नाम बॉलीवुड के टॉप एक्टर्स की लिस्ट में शामिल था। विनोद का जन्म 6 अक्टूबर 1946 को पेशावर (अब पाकिस्तान) में हुआ था। सन 1947 में बँटवारे के बाद उनका परिवार मुंबई आ गया था। विनोद खन्ना ने अपनी शुरूआती पढ़ाई मुंबई और दिल्ली में पूरी की थी। इसके बाद उन्होंने मुंबई के सीडेनहम कॉलेज से कॉमर्स में स्नातक किया था। ज़िंदगी में बेशुमार दौलत और शौहरत कमाने के बाद भी विनोद खन्ना ने अपनी जिंदगी में कई उतर-चढ़ाव देखे हैं। आइए जानते हैं विनोद खन्ना की जिंदगी के कुछ अनसुने किस्से - 

नेगेटिव रोल से की थी फिल्मी सफर की शुरुआत 
कॉलेज के दिनों से ही विनोद खन्ना थिएटर किया करते थे। उन्होंने साल 1968 में आई फिल्म 'मन का मीत' से अपने फिल्मी सफर की शुरुआत की थी। इस फिल्म में विनोद खन्ना विलेन के किरदार में नजर आए थे। विनोद खन्ना उन चुनिंदा ऐक्टर्स में से एक हैं जिन्होंने अपने करियर की शुरुआत नेगेटिव रोल से की। हालाँकि, वे दिखने में बहुत हैंडसम थे जिसकी वजह से बाद में उन्हें फिल्मों में लीड हीरो के रोल में लिया जाने लगा। अपने गुड लुक्स और शानदार एक्टिंग के दम पर विनोद खन्ना ने अपना नाम इंडस्ट्री के टॉप एक्टर्स की लिस्ट में दर्ज करवा लिया था। अपने फिल्मी करियर में विनोद खन्ना ने कई बड़े-बड़े अभिनेताओं के साथ काम किया था। एक समय था जब ऐसा माना जाता था कि अगर सुपरस्टार अमिताभ बच्चन को कोई टक्कर दे सकता है तो वो हैं विनोद खन्ना। विनोद खन्ना ने अपने करियर में ‘मेरे अपने’, ‘कुर्बानी’, ‘पूरब और पश्चिम’, ‘रेशमा और शेरा’, ‘हाथ की सफाई’, ‘हेरा फेरी’, ‘मुकद्दर का सिकंदर’ जैसी कई शानदार फिल्में की थीं। 

सब कुछ छोड़कर बन गए थे संन्यासी 
विनोद खन्ना की जिंदगी भी किसी फिल्म की कहानी की तरह उतार-चढ़ावों से भरी हुई थी। उनके पास दौलत, शौहरत और सब कुछ होने के बाद भी उनके जीवन में एक खालीपन सा था। विनोद खन्ना ने अपनी करियर की ऊंचाई पर पहुंचकर एक ऐसा फैसला लिया जिसने सबको हैरान कर दिया था। दरअसल, साल 1982 में विनोद खन्ना फिल्‍मी दुनिया छोड़कर अपने गुरु रजनीश (ओशो) के साथ अमेरिका जाकर उनके आश्रम में रहने लगे। विनोद पाँच साल तक अमेरिका में ओशो के आश्रम में रहे थे। बाद में एक इंटरव्यू के दौरान विनोद खन्ना ने बताया था कि उनके पास सब कुछ था लेकिन फिर भी वे अंदर से बेचैन रहते थे।

विनोद खन्ना की वैवाहिक जिंदगी भी उतार-चढ़ावों से भरी हुई थी। विनोद खन्ना ने दो बार शादी की थी। उन्होंने साल 1971 में अपनी पहली पत्नी गीतांजलि से शादी की थी। गीतांजलि से विनोद की मुलाकात उन दिनों में हुई थी जब वे थिएटर किया करते थे। कुछ समय बाद में दोनों ने शादी कर ली थी। इस शादी से  दोनों के दो बच्चे अक्षय खन्ना और राहुल खन्ना हुए। हालांकि, साल 1985 में विनोद और गीतांजलि का डिवॉर्स हो गया। इसके बाद साल 1990 में विनोद ने दूसरी शादी कविता से शादी की जिससे उनके दो बच्चे साक्षी खन्ना और श्रद्धा खन्ना हुए।

विनोद खन्ना को अपना बनाना चाहती थीं अमृता सिंह 
फिल्मों में काम करने के दौरान विनोद खन्ना का नाम कई हीरोइनों के साथ जोड़ा गया था। ऐसा माना जाता है कि एक्ट्रेस अमृता सिंह ने विनोद खन्ना को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए काफी पापड़ बेले थे। फिल्म मेकर जेपी दत्ता की फिल्म 'बंटवारा' में अमृता को विनोद के साथ काम करने का मौका मिला था। उन दिनों अमृता का अफेयर क्रिकेटर रवि शास्‍त्री के साथ चल रहा था। अमृता ने रवि को चिढ़ाने के लिए विनोद से नजदीकियाँ बढ़ानी शुरू कर दी थी। हालाँकि, वे ऐसा करने में नाकामयाब रहीं। तब रवि शास्त्री ने उनका मज़ाक उड़ाते हुए कहा कि 'ये अंगूर काफी खट्टा है।' इसके बाद अमृता ने ठान लिया था कि वे विनोद को अपना बना के ही रहेंगी, जिसमें वे कामयाब भी रहीं। लेकिन दोनों का रिलेशनशिप ज़्यादा दिन तक नहीं चल पाया। इसके बाद अमृता और रवि शास्त्री का  भी ब्रेकअप हो गया था।

माधुरी दीक्षित के साथ किया था इंटिमेट सीन 
साल 1988 में आई फिल्म दयावान में विनोद ने माधुरी दीक्षित के साथ इंटिमेट सीन किया था जिसके बाद दोनों काफी दिनों तक सुर्ख़ियों में बने रहे थे। विनोद और माधुरी की उम्र में 10 साल से भी ज्यादा फासला था। लेकिन फिल्म में दोनों के इंटिमेट सीन की वजह से फिल्म काफी चर्चा में रही थी। इसके अलावा भी कई बार विनोद खन्ना का नाम उनकी फिल्म की अन्य हीरोइनों के साथ जोड़ा जा चुका है।

Find Us



बॉलीवुड हलचल

बॉलीवुड की चटपटी खबरों के साथ ही पढ़िये हर नयी फिल्म की सबसे सटीक समीक्षा। साथ ही फोटो और वीडियो गैलरी में देखिये बॉलीवुड की हर हलचल।


लेटेस्ट पोस्ट


L o a d i n g