इस सीरियल से शुरू हुई थी छोटे पर्दे की कहानी, ये थे टीवी पर आने वाले 5 सबसे पुराने सीरियल

अब भले ही हम दूरदर्शन ना देखते हों लेकिन दूरदर्शन के ऐसे कई सीरियल और किरदार हैं जो हमें आज भी अच्छी तरह याद हैं। चाहे टीवी की दुनिया का सबसे पहला सीरियल 'हम लोग' हो या रामानंद सागर की 'रामायण', ऐसे बहुत से सीरियल हैं जिनके किरदार आज भी दर्शकों के ज़हन में एकदम ताज़ा हैं।

Bollywood Halchal Aug 31, 2020

आज भले ही टेलीविजन पर सौ से भी ज़्यादा चैनल हों जिन पर हर घंटे अलग-अलग सीरियल आते रहते हैं लेकिन 80 और 90 के दशक में पैदा हुआ हर बच्चा दूरदर्शन देखकर बड़ा हुआ है। उस समय एक दिन में एक-दो सीरियल  ही आते थे लेकिन उन शोज़ की लोकप्रियता इतनी ज़्यादा थी कि लोग सीरियल देखने के लिए अपना काम जल्दी निपटा लिया करते थे। अब भले ही हम दूरदर्शन ना देखते हों लेकिन दूरदर्शन के ऐसे कई सीरियल और किरदार हैं जो हमें आज भी अच्छी तरह याद हैं। चाहे टीवी की दुनिया का सबसे पहला सीरियल 'हम लोग' हो या रामानंद सागर की 'रामायण', ऐसे बहुत से सीरियल हैं जिनके किरदार आज भी दर्शकों के ज़हन में एकदम ताज़ा हैं। मार्च-अप्रैल में कोरोना लॉकडाउन के दौरान दूरदर्शन पर इन पॉपुलर टीवी सीरियल्स को एक बार फिर से प्रसारित किया गया था जिससे हज़ारों लोगों की बचपन की यादें ताज़ा हो गई थी। आज के इस लेख में हम आपको टीवी के 5 सबसे पुराने सीरियल के बारे में बताने जा रहे हैं -  

हम लोग
भारतीय टेलीविजन का सबसे पहला धारावाहिक 'हम लोग' दूरदर्शन पर 7 जुलाई 1984 को प्रसारित हुआ था। इस सीरियल का निर्देशन पी। कुमार वासुदेव ने किया था और मनोहर श्याम जोशी इस सीरियल के लेखक थे। इस सीरियल में मनोहर श्याम जोशी ने एक भारतीय मिडिल-क्लास परिवार के रोज़मर्रा के संघर्षों को पर्दे पर  बखूबी उतारा था जिसकी वजह से यह सीरियल दर्शकों के बीच बहुत लोकप्रिय हुआ था। इसमें कुल 154 एपिसोड थे और यह सीरियल 17 दिसंबर 1985 तक दूरदर्शन पर प्रसारित हुआ था।

विक्रम और बेताल
महाकवि सोमदेव भट्ट की 'बेताल पच्चीसी' पर आधारित यह सीरियल 13 अक्टूबर 1985 को दूरदर्शन पर प्रसारित हुआ था। यह राजा विक्रमादित्य और बेताल (आत्मा) की कहानी थी जिसमें बेताल विक्रम को 25 कहानियां सुनाता है। बेताल प्रतिदिन राजा को एक कहानी सुनाता है लेकिन उसने राजा से शर्त लगा रखी थी  कि अगर राजा बोलेगा तो वह उससे रूठकर भाग जाएगा। लेकिन बेताल हर कहानी के अन्त में राजा से ऐसा प्रश्न कर देता है कि राजा को उत्तर देना ही पड़ता है।
इस सीरियल में राजा विक्रम का किरदार अरुण गोविल ने  निभाया था। दूरदर्शन पर इस सीरियल के कुल 26 एपिसोड प्रसारित हुए थे। बच्चों से लेकर बड़ों तक, हर किसी को यह सीरियल बहुत पसंद आया था।

बुनियाद
बुनियाद टीवी के सबसे पुराने और अपने दौर के सबसे लोकप्रिय धारावाहिकों में से एक था। यह सीरियल दूरदर्शन पर 1986 में प्रसारित हुआ था। इस सीरियल  की कहानी भारत-पाकिस्तान के बँटवारे पर आधारित थी। इस सीरियल का निर्देशन रमेश सिप्पी और ज्योति ने किया था और मनोहर श्याम जोशी इसके लेखक थे। इस सीरियल में निर्देशक ने बँटवारे के दर्द को पर्दे पर बखूबी उतारा था और इस सीरियल ने दर्शकों ने खूब पसंद किया था। इस सीरियल की लोकप्रियता की वजह से कई निजी चैनलों ने सालों बाद इस सीरियल का पुनः प्रसारण किया था।

रामायण
रामानंद सागर की 'रामायण' भारतीय टेलीविजन के इतिहास के सबसे लोकप्रिय धारावाहिकों में से एक है। 25 जनवरी 1987 को दूरदर्शन पर पहली बार रामायण का प्रसारण किया गया था। यह शो दर्शकों के भी ज़बरदस्त तरीके से हिट हुआ था। बच्चे से लेकर बूढ़े तक टीवी पर रामायण देखने का इंतज़ार करते थे। कहा जाता है कि जब यह सीरियल टीवी पर आता था तो गाँव-शहरों में कर्फ्यू जैसा माहौल हो जाता था। रामायण सीरियल में अरुण गोविल ने राम और दीपिका चिखलिया ने सीता का किरदार निभाया था। इस सीरियल के बाद से अरुण गोविल की लोकप्रियता इतनी बढ़ गई थी कि दर्शक अरुण गोविल को ही राम मानने लगे थे।

मालगुड़ी डेज़
आर के नारायण की कृति पर आधारित सीरियल मालगुडी डेज़ 80 के दशक के सबसे पुराने और लोकप्रिय धारावाहिकों में से एक है। इस सीरियल की शुरुआत 1987 में  दूरदर्शन पर हुई थी और इसमें कुल 39 एपिसोड थे। इस सीरियल में स्वामी एंड फ्रेंड्स तथा वेंडर ऑफ स्वीट्स जैसी कहानियां शामिल थीं। बाद में यह धारावाहिक मालगुडी डेज़ रिटर्न नाम से पुनर्प्रसारित हुआ था। बच्चों के बीच यह सीरियल सुपरहिट था।

Find Us



बॉलीवुड हलचल

बॉलीवुड की चटपटी खबरों के साथ ही पढ़िये हर नयी फिल्म की सबसे सटीक समीक्षा। साथ ही फोटो और वीडियो गैलरी में देखिये बॉलीवुड की हर हलचल।


लेटेस्ट पोस्ट


L o a d i n g