बर्थडे स्पेशल: जानिए सैफ अली खान और मनीष मांजरेकर की जिंदगी से जुड़े कुछ अनसुने किस्से

बॉलीवुड के नवाब साहब और अपनी बोल्ड एक्टिंग के लिए मशहूर अभिनेता सैफ अली खान 16 अगस्त को आज अपने जन्मदिन पर 50 साल के हो गए और सैफ ने इस अवसर को अपने परिवार और दोस्तों के साथ मिलकर मनाया। बेहतरीन और अमूल्य प्रतिभा के धनी अभिनेता महेश मांजरेकर का जन्म 16 अगस्त 1958 को हुआ था।

Bollywood Halchal Aug 16, 2020

सैफ अली खान: 

बॉलीवुड के नवाब साहब और अपनी बोल्ड एक्टिंग के लिए मशहूर अभिनेता सैफ अली खान 16 अगस्त को आज अपने जन्मदिन पर 50 साल के हो गए और सैफ ने इस अवसर को अपने परिवार और दोस्तों के साथ मिलकर मनाया। अभिनेता सैफ अली खान के जन्मदिन पर उनकी पत्नी करीना कपूर और तीनों बच्चे तैमूर, इब्राहिम और सारा मौजूद थे। उनकी कई तस्वीरें सोशल मीडिया फैन पेज पर वायरल हो रही है। हाल ही में सैफ अली खान और करीना कपूर ने एक घोषणा की जिसके बाद इंटरनेट पर एक तूफान आ गया है। करीना दूसरी बार मां और सैफ चौथी बार पिता बनने जा रहे है। इस जोड़ी ने बहुत ही खास दिन यह खुशखबरी अपने फैंस को सुनाई जिसके बाद लोग लगातार सोशल मीडिया पर उन्हें और उनके परिवार को बधाई दे रहे है। वास्तव में सैफ और उनके पूरे परिवार के लिए यह उनकी खुशी दुगना करने वाला पल है इसलिए और सैफ ने अपना जन्मदिन धूमधाम से मनाया। आज उनके जन्मदिन पर आपको बताएंगे उनकी जिंदगी से जुड़े कुछ अनसुने किस्से जो शायद ही आपको पता हो।

1.'परंपरा' फिल्म से अपने करियर की शुरुआत करने वाले सैफ अली खान का बॉलीवुड में सफर हमेशा एक सा रहा।सैफ के पिता नवाब मंसूर अली खान पटौदी मशहूर क्रिकेटर थे लेकिन सैफ ने अपनी मां की लाइन को चुना। एक्टिंग के मामले में सैफ भले ही अपनी मां शर्मिला टैगोर से मुकाबला न कर पाए हों लेकिन सैफ ने अलग-अलग फिल्मों में अपने दमदार अभिनय से एक अलग पहचान बनाई और सफलता की ऊंचाइयों को छुआ।

2.सैफ अली खान वर्ष 1992 में 'बेखुदी' फिल्म से डेब्यू करने वाले थे। इस फिल्म को राहुल रवैल डायरेक्ट कर रहे थे। सैफ को फिल्म में साइन करने के बाद उनका रवैया निर्देशक को अनप्रोफेशनल लगा जिसकी वजह से उन्होंने इस फिल्म में सैफ की जगह कमल सदनाह को ले लिया। इसके बाद सैफ ने यश चोपड़ा की फिल्म 'परंपरा' से बॉलीवुड में अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत की।

3.परंपरा फिल्म के सुपरहिट होने के बाद सैफ अली खान के लिए आगे की राह थोड़ी आसान जरूर हो गई थी। इसके बाद सैफ ने कई फिल्में की जिसमें जिसमें आवारा, पहचान, इम्तिहान, ये दिल्लगी और मैं खिलाड़ी तू अनाड़ी फिल्में शामिल हैं। 'आशिक आवारा' फिल्म के लिए सैफ अली खान को फिल्मफेयर अवॉर्ड फॉर दी बेस्ट मेल डेब्यू से नवाजा गया है।

4.सैफ ने अपने करियर में ऐसे कई किरदार निभाए हैं जिन्हें लोग आज भी याद करते है। ऐसा ही एक रोल फिल्म 'परिणीता' का था। इस फिल्म में सैफ ने शेखर का किरदार निभाया जो दर्शकों को खूब पसंद आया। विधु विनोद चोपड़ा को इस किरदार के लिए सैफ से बेहतर कोई और नहीं लगा और उनका यह भरोसा सैफ ने कायम रखा।

5.वर्ष 2006 में रिलीज हुई 'ओमकारा' फिल्म सैफ के करियर के लिए बड़ा टर्निंग प्वाइंट साबित हुई। इस फिल्म में सैफ ने लंगड़ा त्यागी का किरदार निभाया था। कहा जाता है कि लंगड़ा त्यागी के किरदार के लिए आमिर मजबूत दावेदार थे लेकिन सैफ के औडिशान देने के बाद सब बदल गया। सैफ ने इस रोल के लिए औडिशान दिया जिसे देख विशाल भारद्वाज ने सैफ को इस किरदार के लिए फाइनल कर दिया था।

6.कहा जाता है कि सैफ सुपरहिट फिल्म 'कल हो ना हो' के लिए रोहित बहल की पहली पसंद नहीं थे। रोहित विवेक ओबेरॉय या फिर अभिषेक बच्चन को लेना चाहते थे लेकिन आखिर में सैफ को इस फिल्म के लिए चुन लिया गया।

7.फिल्म 'दिल चाहता है' में सैफ अली खान का समीर का रोल लोगों को खूब पसंद आया। बहुत ही कम लोगों को पता है कि सैफ ने इस किरदार के लिए पहले मना कर दिया था लेकिन बाद में बॉलीवुड एक्ट्रेस डिंपल कपाड़िया के कहने पर सैफ इस किरदार को निभाने के लिए राजी हो गए थे।

8.सैफ अली खान और अमृता सिंह की पहली मुलाकात साल 1992 में हुई थी। यह वह वक्त था जब अमृता बॉलीवुड में अपनी पहचान बना चुकी थीं और सैफ 'बेखुदी' फिल्म में डेब्यू करने वाले थे। हालांकि बाद में इस फिल्म में सैफ की जगह किसी और को साइन कर लिया गया। इसके पीछे की वजह सैफ का अनप्रोफेशनल बर्ताव कहा गया। इस फिल्म से जुड़े फोटोशूट के दौरान ही सैफ की मुलाकात अमृता सिंह से हुई थी। जिसके कुछ समय बाद दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया था। 12 साल बाद सैफ और अमृता का तलाक हो गया था। इसके कुछ साल बाद सैफ ने करीना से शादी कर ली।

महेश मांजरेकर:

बेहतरीन और अमूल्य प्रतिभा के धनी अभिनेता महेश मांजरेकर का जन्म 16 अगस्त 1958 को हुआ था। इस साल महेश अपना 62 वां जन्मदिन मना रहे हैं। उन्होंने अपने फिल्मी करियर में कई चैलेंजिंग किरदार निभाए हैं। महेश अभिनय के मामले में बॉलीवुड के सितारों से किसी भी मायने में कम नहीं है।महेश मांजरेकर बॉलीवुड और मराठी फिल्म उद्योग में समीक्षकों द्वारा प्रशंसित अभिनेता, लेखक, निर्देशक और निर्माता हैं। उन्होंने मनोरंजन उद्योग में अपने करियर की शुरुआत मराठी थिएटर से की। बाद में उन्होंने बॉलीवुड में अपना मार्ग प्रशस्त किया। महेश को बॉलीवुड में 'वास्तव', 'अस्तित्वा', 'फैमिली कम्स फर्स्ट' जैसी फिल्मों के लिए निर्देशक के रूप में जाना जाता है। महेश के मराठी निर्देशकीय उपक्रम जैसे 'काकस्पर्श', 'लालबाग परेल', 'माटिच्या चूली', 'फकत लधना’ जैसी मराठी फिल्म उद्योग की कुछ सबसे बड़ी हिट फ़िल्में थीं। महेश हॉलीवुड ऑस्कर विजेता फिल्म का भी हिस्सा रहे हैं जैसे 'स्लमडॉग मिलियनेयर'।आज उनके जन्मदिन पर आपको बताएंगे उनकी जिंदगी से जुड़े कुछ अनसुने किस्से जो शायद ही आपको पता हो।

1.महेश मांजरेकर हमेशा से विवादों में रहे है। 2002 में, महेश ने पुलिस अधिकारियों को बताया कि उन्होंने अभिनेता संजय दत्त, फिल्म निर्माता संजय गुप्ता और हरीश सुघंद की कंपनी में नासिक के एक होटल से अंडरवर्ल्ड से बात की थी। हालांकि, बाद में वह अदालत में अपने बयान से मुकर गए और किसी से भी बात करने से इनकार कर दिया।

2.बॉलीवुड में विवादों के बाद, महेश मांजरेकर ने मराठी फिल्मों पर अधिक ध्यान केंद्रित किया। महेश मराठी फिल्म उद्योग की वृद्धि में बेहद महत्वपूर्ण थे और उन्होंने हमेशा अपने योगदान के लिए उद्योग में सम्मान हासिल किया है। उनकी उल्लेखनीय फिल्में जैसे 'काकस्पर्श' और 'फकत लढा मन्ना’ ने मराठी फिल्मों के मानकों को उभारा। महेश ने 'शाला' जैसी फिल्मों में नई प्रतिभाओं का भी समर्थन किया। वह उद्योग में कई युवा अभिनेताओं के करियर को सुव्यवस्थित करने में सहायक रहे है।

3.महेश ने मराठी टेलीविजन और थिएटर में भी योगदान दिया है। उनका धारावाहिक 'तुझ माज़ा जमना' पहला मराठी धारावाहिक था, जिसमें विदेश में गाने का सीक्वेंस शूट किया गया था। उनका नाटक 'एक पहेली ना करूं' मराठी थिएटर उद्योग में एक ट्रेंड सेटर था क्योंकि वे लिव-इन रिलेशनशिप के एक संवेदनशील विषय से निपटते थे। उनका एक अन्य नाटक 'ऑल द बेस्ट - द म्यूजिकल' एक पुराने क्लासिक नाटक का पुनरुद्धार था।

4.मांजरेकर ने फिल्म "संजू" में एक विशेष भूमिका निभाई है। महेश ने नेटफ्लिक्स की श्रृंखला "सिलेक्शन डे" में भी अभिनय किया है, जिसमें उन्होंने क्रिकेट कोच टॉमी सर की भूमिका निभाई।2018 में, उन्होंने रियलिटी टीवी शो "बिग बॉस मराठी" के पहले सीज़न की मेजबानी भी की है।

5.महेश मांजरेकर ने 2014 में लोकसभा चुनाव के साथ राजनीति में पदार्पण किया। उन्होंने 2014 के चुनावों को मुंबई उत्तर-पश्चिम निर्वाचन क्षेत्र से राज ठाकरे के नेतृत्व वाले MNS (महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना) के हिस्से के रूप में लड़ा, हालांकि वह शिवसेना के गजानन कीर्तिकर से हार गए थे।

6.मई 2013 में, महेश मांजरेकर की मराठी फिल्म "कोकनस्थ" के पोस्टर ने आलोचना का सामना किया किया। पोस्टर में अभिनेता सचिन खेडेकर को एक टैग लाइन के साथ आरएसएस स्वंयसेवक के रूप में कपड़े पहने हुए दिखाया गया है जिसके बाद लोगों ने इसे "ब्राह्मण सर्वोच्च" कहा।

7.वर्ष 2000 में, महेश ने महिलाओं के लिए फिल्म "अस्तित्वा" की एक मुफ्त स्क्रीनिंग का आयोजन किया। उस समय उन्होंने यह अपेक्षा नहीं करी थी कि वह इसे देखने आएंगी, लेकिन परिणाम एकदम इसके उलट था और कई महिलाएं फिल्म की स्क्रीनिंग में शामिल हुईं इतना की उनकी टीम को भीड़ का प्रबंधन करने के लिए पुलिस को बुलाना पड़ा। उनकी फिल्म "अस्तित्वा" बहुत हिट रही और उन्हें 2001 में सर्वश्रेष्ठ क्षेत्रीय फिल्म के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला।

8.दो दशक से अधिक के करियर में, मांजरेकर ने देश के सभी प्रमुख फिल्म उद्योगों में 75 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया है। उन्होंने हिंदी और मराठी सिनेमा में 25 से अधिक फिल्मों का लेखन और निर्देशन भी किया है। एक इंटरव्यू में, महेश ने खुलासा किया कि सलमान खान बॉलीवुड में उनके एकमात्र दोस्त थे।

Find Us



बॉलीवुड हलचल

बॉलीवुड की चटपटी खबरों के साथ ही पढ़िये हर नयी फिल्म की सबसे सटीक समीक्षा। साथ ही फोटो और वीडियो गैलरी में देखिये बॉलीवुड की हर हलचल।


लेटेस्ट पोस्ट


L o a d i n g